Physics

गति किसे कहते है ?, गति की परिभाषा, सरल रेखीय गति (Motion in Hindi)

Motion in Hindi

इस Article में हम Motion In Hindi (गति) के बारे में पढ़ेंगे। जिसमे पढ़ेंगे गति किसे कहते है ? (What is Motion in Hindi), गति की परिभाषा, सरल रेखीय गति, शुद्धगतिकी, वस्तु की स्थिति आदि।

गति किसे कहते है ? (Motion in Hindi)

जब भी कोई वस्तु अपनी स्थिति में परिवर्तन करती है या एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाती है तो कहा जाता है की वस्तु गतिशील अवस्था में है।
इसके कुछ उदाहरण इस प्रकार है।

जैसे पेड़ से पत्तो का गिरना
किसी भी जानवर का चलना
किसी वाहन का चलना आदि।
ब्रह्माण्ड में सभी वस्तुएं गति की अवस्था में है चाहे वो सूर्य हो या पृथ्वी।

Also Read – चुंबकीय सुग्राहिता किसे कहते हैं ? ( Magnetic susceptibility in Hindi ) 

गति की परिभाषा (Definition of Motion in Hindi)

किसी भी वस्तु का समय के साथ जगह में परिवर्तन को गति कहते है या किसी भी वस्तु का समय बीतने के साथ स्थिति में परिवर्तन हो तो कहा जाता हैं की वस्तु गति की अवस्था मे है या गति हुई है।

सरल रेखीय गति

यदि कोई वस्तु सरल रेखा के अनुदीश गति कर रही है तो उसे उस वस्तु की सरल रेखीय गति कहते है।सरल रेखीय गति को एक रेखीय गति भी कहते है। उदाहरण के लिए कोई भी साइकिल सवार एक सीधी सड़क पर गति कर रहा है।

शुद्धगतिकी

इस प्रकार की गति में वस्तु की गति के कारणों पर ध्यान दिए बिना उस वस्तु की गति का अध्ययन किया जाता है। किसी भी वस्तु की गति के लिए चार कारकों का होना आवश्यक है।
ये चार कारक वस्तु की स्थिति,समय,पथ की लंबाई और वस्तु का विस्थापन होते है।

वस्तु की स्थिति

गतिमान वस्तु की स्थिति का पता लगाने के लिए संदर्भ बिंदु तथा अक्षो के सेट की आवश्यकता होती हैं।गतिमान वस्तु की स्थिति का पता लगाने के लिए समकोणीय निर्देशांक का चुनाव किया जाता है। इसमें तीन अक्ष होते है जिनके नाम x,y और z अक्ष है।ये तीनों अक्ष एक दूसरे के लंबवत होते है तथा प्रतिचछेद बिंदु को मूल बिंदु कहते है।इस मूल बिंदु को o से प्रदर्शित किया जाता है।

गति और विराम अवस्था

जब कोई वस्तु समय के साथ अपने अक्ष के अनुदीष जगह बदलती है तो वस्तु को गति अवस्था में कहते है। तथा जब वस्तु का अपने अक्ष के अनुदिष जगह में कोई परिवर्तन नहीं आता है तो उस वस्तु को विराम अवस्था मे कहते है।

पथ लंबाई और दूरी

किसी भी वस्तु द्वारा चली गई दूरी को पथ की लंबाई कहते है।

विस्थापन

किसी भी वस्तु की दूरी में जो परिवर्तन आता है उसे विस्थापन कहते है।
किसी भी वस्तु की दूरी तथा विस्थापन भिन्न हो सकते है।

सदिश तथा आदिश राशि

ऐसी राशि जिनकी दिशा तथा परिमाण दोनो होते है सदीश राशि कहलाती है तथा ऐसी स्थिति राशियां जिनका केवल परिमाण होता है दिशा नही होती है आदिश राशि कहते है।

About the author

adminagricultureinhindi

मेरा नाम विशाल राठौर है। मै इस Website का लेखक हूँ। इस Website पे मै Agriculture Study के लेख प्रकाशित करता हूँ।

Leave a Comment