Agriculture News

विदेशों में है किन्नौर के शाही लाल सेब की मांग, जैविक खेती से किसानों को होता है फायदा

kinnaur apple

kinnaur apple – हिमाचल प्रदेश में किन्नौर क्षेत्र अपने अच्छे सेब उत्पादन के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। हालांकि किन्नौर में सेब की कई वैरायटी हैं, लेकिन लोग रॉयल रेड और बिग एप्पल को देखने के लिए ललचाते हैं। इस बार किन्नौर में सेब की बंपर फसल हुई। kinnaur apple

Also Read – दो दोस्तों ने भारत में सबसे बड़े एक्वापोनिक फार्म की स्थापना की है 

पेंट पर स्प्रे और वैक्स का प्रयोग  करें

सेब को लेकर कई तरह के भ्रम और गलतफहमी सोशल मीडिया पर फैली हुई है, जिसमें यह भी कहा गया है कि सेब को और अधिक रंगीन बनाने के लिए कई तरह के छिड़काव किए जाते हैं, लेकिन अब किसानों ने मुख्य रूप से जैविक सेब का इस्तेमाल किया है। सेब पर किसी भी तरह के स्प्रे या वैक्स का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। सेब को अलग-अलग श्रेणियों में छांटा और पैक किया जाता है। सेब की कीमत उसी के हिसाब से तय की जाती है |

विदेशों में किन्नौर सेब की मांग

राज्य भर में, हिमाचल प्रदेश में लगभग 100,000 हेक्टेयर में सेब उगाए जाते हैं। नतीजतन, वार्षिक कारोबार लगभग 5000 करोड़ है। सबसे खास बात यह है कि पूरे राज्य में किन्नौर का प्रतिशत सबसे ज्यादा है। किन्नौर सेब की देश-विदेश में भी काफी मांग है। किन्नौर का अधिकांश क्षेत्र लाहौल-स्पीति और चीन के बीच की सीमा के आसपास है। ऐसे में ऊंचाई अधिक होने के कारण इस क्षेत्र में ठंड अधिक रहती है। भारी बर्फबारी के कारण यहां के सेबों की गुणवत्ता अन्य जगहों की तुलना में रसदार और कुरकुरी है।

2 साल में पेड़ पर फल लगने लगेंगे

किन्नौर में उगाई जाने वाली पारंपरिक सेब की किस्मों में रॉयल, गोल्डन, रिचर्ड और रेड शामिल हैं। हालांकि, किसानों ने अब नई तकनीक का उपयोग करके सपर किस्म को भी उगाना शुरू कर दिया है। एक सेब के पेड़ को फल लगने में 10 से 12 साल लगते थे, लेकिन उस दौरान एक पेड़ 70 से 100 बक्सों का उत्पादन करता था, लेकिन अब लोगों ने नई किस्म उगाना शुरू कर दिया है, दो साल में फल पेड़ पर होगा कहा जाता है कि इन पेड़ों की ऊंचाई के आधार पर पेड़ों के फलों की गुणवत्ता भी प्रभावित होती है। अधिकांश लोगों ने अब तक कीटनाशकों या कीटनाशकों का उपयोग करना बंद कर दिया है। इससे आपका खर्चा और भी कम होता है। जैविक सेब की मांग भी बढ़ रही है। इसलिए बाजार में कीमत भी अच्छी है। इसलिए लोग अब जैविक खेती की ओर लौट रहे हैं।

Learn Here – Physics in Hindi 

About the author

adminagricultureinhindi

Leave a Comment