Agriculture News

घर पर पपीते की खेती कैसे करें 7 आसान चरणों में

पपीते की खेती

घर पर पपीते की खेती कैसे करें 7 आसान चरणों में – विशालकाय पपीता के पौधे की पत्तियों को दूर से भी देखा जा सकता है। यह पौधा देखने मे सुंदर लगता है। इसके फल स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होते है। आइये जानते है घर पर पपीते की खेती कैसे की जा सकती है।

पपीते के पौधे को उगाना अक्सर एक कठिन कार्य माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसे फलने-फूलने के लिए धैर्य दिखाना होता है।
कोलकाता स्थित बागवानी विशेषज्ञ संतोष मोहता ने खुलासा किया कि एक बार एक पेड़ लगाने के बाद, आप अच्छी देखभाल पर उससे 50 -200 किलो तक फल प्राप्त कर सकते हैं।

आमतौर पर स्थानीय दुकानों से खरीदा जाने वाला यह फल फाइबर और पानी से भरपूर होता है। यह विटामिन ए, बी, सी, और के और कई खनिजों का भी एक बड़ा स्रोत है।

संतोष के पास अपने घर पर पपीते का अपना पौधा है, और अपने अनुभव से साझा करता है कि घर के पपीते का स्वाद बाजार से खरीदे गए फल की तुलना में अधिक मीठा होता है। लेकिन उनका कहना है कि बाजार में मिलने वाले इन फलों का इस्तेमाल घर बगीचे में पहला पौधा उगाने के लिए किया जा सकता है।

Also Read – केला उगाने का बिजनेस आइडिया: केले उगाने से कमाएं 8 लाख रुपये तक का मुनाफा, गेहूं धान गन्ना उगाने की बात तो छोड़िए! 

पपीता उगाने के लिए जरूरी चीजे

पॉट या ग्रो बैग: पपीते के पौधे के बड़े आकार को बढ़ने के लिए आनुपातिक रूप से बड़े बर्तन की आवश्यकता होती है। संतोष के अनुसार यदि एक बड़ा बर्तन भारी लगता है, तो कोई 24 से 30 इंच के ग्रो बैग का विकल्प चुन सकता है।

मिट्टी की तैयारी: कोकोपीट, सामान्य बगीचे की मिट्टी, वर्मीकम्पोस्ट या घरेलू खाद और गाय के गोबर की समान मात्रा का उपयोग करके पौधे के लिए मिट्टी का मिश्रण तैयार करें। मिट्टी हल्की और भुरभुरी हो, जिससे पानी की निकासी आसान हो। संतोष का कहना है कि जमा हुआ पानी आपके पौधे को नष्ट कर सकता है।

बीज: पपीते के फल में जो बीज निकलते हैं उन्हें पानी से भरे कटोरे में डाल दें। पौधे को उगाने के लिए केवल उन्हीं बीजों का उपयोग किया जाता है जो अच्छे हो।

Also Read –  जिंजर फार्मिंग बिजनेस आइडिया (Ginger farming business in Hindi )

पपीते की रोपण प्रक्रिया:

  • गमले का मिश्रण तैयार करें और उसमें सभी निकाले गए बीजों को थोड़ी दूरी पर रोपें। यह एक छोटे कंटेनर या अंकुर ट्रे में किया जा सकता है।
  • मिट्टी की ऊपरी परत बनाएं और उस पर पानी छिड़कें। लगभग 10 दिनों में आपको मिट्टी से पौधे उगते हुए दिखाई देने लगेंगे।
  • एक बार चार से पांच पत्ते दिखाई देने के बाद पपीते पौधे को एक बड़े बर्तन में ले जाने का समय हो जाता है। एक गमले में एक ही पौधा लगाएं।
  • आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले ग्रो बैग या गमले में मिट्टी को हवादार करके एक उचित जल निकासी की व्यवस्था करे।
  • गमले को तेज धूप वाली जगह पर रखें। हर दिन एक दिन छोड़कर पौधे को पानी दें।
  • पौधे पर कीड़ों से बचने के लिए आप नीम की खली भी छिड़क सकते हैं।
  • हर महीने अपने पौधे में थोड़ी सी गोबर की खाद डालते रहें। इसके अलावा जब फल का समय हो तो खाद डालें।

चूंकि इस पौधे को बढ़ने के लिए पर्याप्त धूप की आवश्यकता होती है, पपीता लगाने के लिए मार्च या अप्रैल के महीने सबसे अच्छे होते हैं। आपका पौधा 8 से 10 महीने में तैयार हो जाएगा और सर्दी आते ही उसमें फल लगने लगेंगे। अधिक जानकारी के लिए आप संतोष मोहता से उनके फेसबुक पेज पर संपर्क कर सकते हैं ।

About the author

adminagricultureinhindi

Leave a Comment