Agriculture Study Microbiology

Sterilization in microbiology in Hindi (सूक्ष्म जीव विज्ञान में बंध्याकरण)

Sterilization in microbiology in Hindi

इस Article में Sterilization in microbiology in Hindi (सूक्ष्म जीव विज्ञान में बंध्याकरण) के बारे में पढ़ेंगे। इसमें हम methods of Sterilization in microbiology in Hindi – Sterilization in microbiology in Hindi के बारे में भी पढ़ेंगे।

What is Sterilization in microbiology in Hindi

सूक्ष्म जीव विज्ञान में बांध्यकरण का मतलब जीवन उत्पत्ति के सभी रूपों को हटा देना है, ऐसी परिस्थिति जिसमें कोई भी जीवन विकसित नहीं हो पाता है, यह जीव की उत्पत्ति के सभी माध्यमों को समाप्त कर देता है एवं उसकी उत्पन्न होने की क्षमता को निष्क्रिय कर देता है ।

सामान्यतः वह जीव जिन्हें हम खुली आंखों से भी नहीं देख पाते हैं सूक्ष्म जीव कहलाते हैं, बांध्यकरण उनकी उत्पत्ति की रोकथाम का भी माध्यम है!

जीव की उत्पत्ति के सभी माध्यमों को समाप्त कर देना, निष्क्रिय कर देना, मार देना बांध्यकरण है, यहां एक सतह पर मौजूद सूक्ष्मजीव से लेकर तरल पदार्थ में पाए जाने वाले जीव रूपी तत्वो खासकर भोज्य पदार्थों मैं पाए जाने वाली फफूंद, बैक्टीरिया, बीजाणु जिनमें स्वयं प्रजनन कर जीव उत्पत्ति की क्षमता होती है, इनकी उत्पत्ति में मेल या फीमेल जैसे अलग दो माध्यमो की भी आवश्यकता नहीं होती है, ऐसे जीवों के जीवन को बांध्यकरण की प्रक्रिया द्वारा रोका जा सकता है!

Methods of sterilization in Hindi

बांध्यकरण के कई तरीके हैं सूक्ष्म जीवों में बांध्यकरण के माध्यमो मे गर्मी, रसायन, विकिरण, शामिल है!

उच्च दबाव और निष्पादन बांध्यकरण से अलग है!

विभिन्न पेय पदार्थों एवं भोज्य पदार्थों को सुरक्षित रखने के लिए सूक्ष्म जीवों में बांध्यकरण (जीवन की सभी संभावनाओं को नष्ट करना) आवश्यक है!

बंध्याकरण व नसबंदी को कई जगहों पर विशेष रूप से उपयोग में लाया जाता है। जैसे कि अगर हम बात करें खाद्य पदार्थों में बंध्याकरण या नसबंदी की तो हम देखेंगे कि आज के आधुनिक युग में हम कई प्रकार के डिब्बा पर एक प्लास्टिक पैकिंग में आने वाले खाद्य पदार्थ अथवा अन्य कई प्रकार के खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। आपने देखा होगा कि खाद्य पदार्थों की पैकिंग में कुछ विशेष प्रकार की प्रक्रियाओं द्वारा उन्हें पैक किया जाता है। जिससे कि खाद्य पदार्थों को लंबे समय तक उपयोग में लाया जा सके। कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी होते हैं।

जिन्हें हम 1 महीना 2 महीना या सालों तक इस्तेमाल करते हैं। इसके लिए हम उन खाद्य पदार्थों की विशेष रूप से पैकेजिंग अथवा लंबे समय तक उस खाने का हम उपयोग कर सकें ऐसी व्यवस्था करते हैं। इस प्रकार की गई व्यवस्था को ही हम बंध्याकरण या नसबंदी कह सकते है

इसके अलावा दवा और सर्जिकल उपकरणों में भी बंध्याकरण या नसबंदी को उपयोग में लाया जाता है।आपको शायद याद होगा कि प्राचीन रूम में चिकित्सा उपकरणों की हिट नसबंदी का उपयोग किया जाता था । लेकिन यह ज्यादातर मध्य युग में गायब हो गया ।

जिसके परिणाम स्वरूप शल्य चिकित्सा की प्रक्रियाओं के बाद विकलांगता और मृत्यु दर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई द्रव्य प्रतिस्थापन चिकित्सा के लिए इंजेक्शन योग्य दवाइयां और अंत:शिरा समाधान तैयार करने के लिए न केवल उच्च बांझपन आश्वासन स्तर की आवश्यकता होती है, बल्कि प्रारंभिक नसबंदी के बाद साहसी एजेंटों के प्रवेश को रोकने के लिए अच्छी तरह से डिजाइन किए गए कंटेनरो की आवश्यकता होती है।

सामान्य तौर पर शल्य चिकित्सा उपकरण और दवाएं जो शरीर के पहले से ही बांस हिस्से (जेसे रक्त या त्वचा के नीचे) मैं प्रवेश करती है। उनमें कुछ बांझपन आश्वासन स्तर होना चाहिए। ऐसे उपकरणों के उदाहरणों में स्केल पर हाइपोडर्मिक सुई और कृत्रिम पेजमेकर शामिल है यह पैरेंटल फार्मास्युटिकल्स के निर्माण में भी आवश्यक है।

बंध्याकरण या नसबंदी कई प्रकार की होती है। जिसमें एक होती है गर्मी नसबंदी इसके अंतर्गत हम भाप,भोजन,खाने के बर्तन,नहाना तथा अन्य ताप विधियों में जलन भस्मीकरण उबालना इन टिंडलाइजेशन और सुखी गर्मी का उपयोग करना शामिल है।

गर्मी नसबंदी के व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली विधि आटोक्लेव है। ऑटोक्लेव आमतौर पर वायुमंडलीय दबाव से ऊपर 103 केवीए(15 पीएसआई)पर 121 डिग्री सेल्सियस(250 डिग्री फॉरेनहाइट)तक गर्म भाप का उपयोग करते हैं। इस तापमान को कम से कम 15 मिनट या 134 डिग्री सेल्सियस तक कम से कम 3 मिनट तक गर्म करने पर ठोस सतह को प्रभावी ढंग से निष्फल किया जाता है। हालांकि कपड़े की परतों में पेश किए गए तरल पदार्थ और उपकरणों को स्टेरलाइजिंग तापमान तक पहुंचने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है। नसबंदी के बाद दबाव जारी होने पर उबलने से बचने के लिए ऑटोक्लेव्ड तरल पदार्थ को धीरे धीरे ठंडा किया जाना चाहिए।

खाना पकाने और डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों के बंध्याकरण व नसबंदी एक आम अनुप्रयोग है। पानी उबालने से सभी सामान्य रोगाणुओं की वानस्पतिक अवस्था समाप्त हो जाती है। मांस को भी तब तक भुना जाता है जब तक कि यह अच्छी तरह से तैयार ना हो जाए।

भूनने से आमतौर पर भोजन की विषाक्तता को रोका जा सकता है। भोजन को सही प्रकार से जीवाणु रहित करें। क्योंकि पका हुआ भोजन रोग पैदा करने वाले सूक्ष्म जीवों की संख्या को उस स्तर तक कम कर देता है। जिससे सामान्य पाचन और प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए वह खतरा साबित ना हो। इसीलिए फूड प्वाइजनिंग से बचने के लिए विशेषज्ञ की सिफारिशों का पालन भी किया जाना चाहिए।

चिकित्सा के क्षेत्र में उपयोग में आने वाली एक्सरे मशीन में भी बंध्याकरण उपयोग में लाया जाता है। एक्स रे मशीन हानिकारक किरणें बहुत ही खतरनाक होती है। इनसे बचाव के लिए विकिरण नसबंदी का उपयोग किया जाता है।

रसायनों के लिए भी नसबंदी का उपयोग किया जाता है हालांकि हिटिंग सभी पारगम्य एजेंटों की वस्तुओं से छुटकारा पाने का सबसे विश्वसनीय तरीका प्रदान करता है। यह हमेशा उपयुक्त नहीं होता है क्योंकि यह जैविक सामग्री फाइबर ऑप्टिक्स इलेक्ट्रॉनिक्स और कहीं प्लास्टिक जैसे गर्मी संवेदनशील सामग्री को नुकसान पहुंचाएगा।

नहाना और धोना त्वचा को झुलसाए बिना बैक्टीरिया को स्टेरलाइज करने का तरीका है। अधिकांश गर्म नल का पानी 43 और उन 49 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। हालांकि कुछ लोग इसे 55 डिग्री सेल्सियस तक ऊंचा कर देते हैं। मनुष्य को 41 से 42 डिग्री सेल्सियस पर पानी दर्द देने लगता है । जबकि बैक्टीरिया 55 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक तापमान पर मारे जाने के बजाय तेजी से बढ़ेंगे।

बंध्याकरण की प्रक्रिया में का एक प्रकार यह भी होता है कि कभी-कभी स्पष्ट तरल पदार्थ जो गर्मी विकिरण या रासायनिक नसबंदी से क्षतिग्रस्त हो जाते हैं उन्हें यांत्रिक निस्पंदन द्वारा निष्फल किया जा सकता है ।अर्थात उन्हें फिल्टर कर दिया जाता है।

About the author

adminagricultureinhindi

मेरा नाम विशाल राठौर है। मै इस Website का लेखक हूँ। इस Website पे मै Agriculture Study के लेख प्रकाशित करता हूँ।

Leave a Comment